नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 24 सितंबर 2013

बीमारी

बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

एहि सॅ बचे के नहिं छे कोनो उपाय
बाजारो में भेटहि नहिं छे कोनो दवाई

मन होय य चुरुक भरि पानि म डूबि जाई
आब त एहि जिनगी के मालिक भगवान भ गेल

बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

सोचेत होयब एहि बीमारी के की नाम छी
की अहाँ सब सत्ते ई चीज स अनजान छी
भाँझ लागल छल अहाँ सब बड़का विद्वान छी
ओहि बीमारी स इन्सान आब षैतान भ गेल

बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

लक्षण बता देत छी , ई बेटीए ता के धरई छई
जाहि स रोज हजारो बेटी आ बहिन मरई छई
सब कियो देखई छइ मुदा किछु नहिं करई छई
ई सब देखि के ’आशिक’ अवाक आ हैरान भ गेल

बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

घर घर म ई पसरल अछि नाम छी दहेज
इलाज एकर एके गो जे करऽ पड़त परहेज
आउ सब गोटे सपथ खाउ नहिं लेब दहेज
कियै ’आशिक ’ अहाँ के बंद जुबान भ गेल
बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

एकर विषाणु पनपई छै अज्ञान स
बीमारी दूर भ सकई अछि ज्ञान स
बेसि के सब सोचू एक बेर ध्यान स
फेरि देखब मिथिला केतेक महान भ गेल

बीमारी छल त पुरान मुदा आब जवान भ गेल
जाहि सॅ सब कियो व्यक्ति आब परेषान भ गेल

आशिक ’राज ’

1 टिप्पणी: