नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

बुधवार, 3 जुलाई 2013

गीत


लड़का - चलय तीरथ करब चारु धाम गे बहिनी , चलय तीरथ करब चारु धाम
लड़की - मिथिला सन कोनो नहिं धाम यौ भइया , मिथिला सन कोनो नहिं धाम
लड़का - चलय तीरथ करब चारु धाम गे बहिनी , चलय तीरथ करब चारु धाम
लड़की - मिथिला सन कोनो नहिं धाम यौ भइया , मिथिला सन कोनो नहिं धाम
लड़का - पहिने जायब देखब अवधपुर -2 , जनम लेलनि  जेतह श्रीराम गे बहिना
चलय तीरथ करब चारु धाम .........................................
लड़की - अवध से  सुन्दर मिथिला नगरी -2, बहिन सीता के गाम यौ भइया
मिथिला सन कोनो नहिं धाम ..................................................
लड़का - तखन जायब मथुरा वृन्दावन - 2 , रास रचेलेनि जेतह घनष्याम गे बहिना
चलय तीरथ करब चारु धाम ......................................................
लड़की - वृन्दावन सौ सुन्दर जनकक फुलवारी -2 , सुगा पढ़य छई वेद पुरान यौ भइया
मिथिला सन कोनो नहिं धाम........................................................
लड़का - षिवके नगरी देखब काषी -2 , महादेवक प्रिय स्थान गे बहिना
चलय तीरथ करब चारु धाम ......................................................
लड़की - जाहिठाम उगना बनला महादेव - 2 , विद्यापतिके गाम यौ भइया
मिथिला सन कोनो नहिं धाम........................................................
लड़का - साँचे कराओल तु ज्ञान गे बहिनी , मिथिला सन कोनो नहिं धाम
लड़की - मिथिला सन कोनो नहिं धाम यौ भइया , मिथिला सन कोनो नहिं धाम
साथ - मिथिला सन कोनो नहिं धाम यौ भइया (गे बहिनी ) , मिथिला सन कोनो नहिं धाम - 4


लेखक - आशिक ’ राज’ 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें