नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

शुक्रवार, 7 जून 2013

टीस



- गे बड़की सखी बड दिन बाद तोरासँ भेंट भेल ।तोहर मोन करै छौ, कने संगी-सहेलीसँ भेंट कऽ लेब ?
- हँ गे छोटकी सखी मोन तँ बड होइ छै, मुदा की करियै हमर घरबला हमरा बिनु रहिते नै छथि ।
- उहो की करथुन ।गामसँ कहियो बहरेबो नै ने केलनि ।
- छोड़ ई सब ।ई बता जे एते सोना किए पहिरने छें ? बुझल नै छौ जमाना कते खराप छै ?
- हमर घर बला दुबाइमे कमाइ छै ।कह, सोना नै पहिरबै तँ कि तोरा सन पीत्तर पहिरबै ।
- तोसर साज-श्रृंगार तँ व्यर्थ छो सखी ।हम पीत्तरो पहिरै छी तँ सदिखन पतिक पिआर भेटैत अछि हमरा, मुदा तूँ कतबो बनि-ठनि ले पतिक पिआरसँ दूरे रहबें, तड़पैत . . . ।
छोटकी सखीकेँ लागलै जे करेजमे असहनिय टीस उठि गेलै ।किओ दूखाइत घावपर नोन रगड़ि देलकै ।

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें