नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

रविवार, 9 जून 2013

सियाख



"यै एकटा बात कहुँ  ।"
"की ?"
"हमर इच्छा छल जे बौआक नामकरण नवका स्टाइलमे करितौं ।"
" जेना ? फरिछाउ तँ ।"
"जेना चिन्टू, सन्टू, टिन्कू, भोलू, छोटू आदि आदि ।"
" हे अपन वेस्टर्न सऽख अपने लऽग राखू ।अपन मिथिलामे ई सियाख चलै बला नै अछि ।"
"से किए ? मैथिल वेस्टर्न ड्रेस पहिरै छथि की नै ? अंग्रेजी चलै छै की नै ?"
" बुझलौं बुझलौं ।बाजब आ ड्रेस क्षणिक होइत अछि तें आनो रीत अपना लैत छी , मुदा नाँउ तँ भरि जीवन आ मुइलाक बादो चलैत रहैत अछि ।एकरा पश्चिमीकरण नै करू ।बौआक नाँउ तँ भगवानेक नामपर राखब, उगना. . . ।"

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें