नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

बुधवार, 12 जून 2013

मीडिया


घर पहुँचिते लागल जे स्वर्गमे पहुँचि गेलौं ।सजल घर-दुआरि एना लागैत छल जे दिबाली छै ।कनियाँकेँ खुश देख लागल जे जरूर किओ नैहरसँ आएल हेतै ।हमरा देख ओ हँसैत बाजलनि "हे एकटा बात बुझलियै ।आइ तँ कमाल भऽ गेलै ।आइ आबि गेलै ।"
हमर शक मजगूत भऽ रहल छल ।बूझि गेलौ जे आब जेबी कटबे करत ।मन्हुआएल कहलियै " की आबि गेलै ?फरिछा कऽ बाजू ने ।"
ओ खुशीक सीमा पार करैत कहलनि "आइ छबो बलत्कारीक फाँसीक निर्णय आबि गेलै ।"
आब तँ हमहूँ खुश छलौं ।आखिर केतकीकेँ न्याय भेँटि गेलै ।"यै ई चमत्कार कोना भेलै ?" हमर सबालपर ओ उत्तर देलनि "ई मीडिया बला तते ने छापलकै जे सरकारकेँ मजबूर हुअऽ पड़लै ।सत्तमे अपन देशक मीडिया बड मजगूत अछि ।"
आइ हमरा मीडिया लेल सम्मान सए गुणा बढ़ि गेल ।

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें