नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 28 मई 2013

मेला


"चलू. . .चलू . . . सगरो गाम जा रहल छै . . .अहूँ चलू ।" कमला बाबू सत्तर वर्षक उमरिमे बीस वर्ष बला जोश देखबैत कहलनि " यौ रमेश जी, की सोचै छी? चलू ने, बड नीक मेला लागल छै ।"
रमेश बाबू लुंगी आ हाफ गंजीमे दलानक एकातमे बनाओल छोट-छीन उपवनमे टहलैत छलथि ।कमला बाबूक निमन्त्रण सूनि बाटपर आबि उपहास करैत कहलनि " अहीं जाउ, हम जा कऽ की करब? हमरा घरमे तँ सदिखन मेले रहैत अछि ।" फेर छाती छत्तीस इन्च फुलबैत बाजलनि "असली मेला तँ तखन छै जखन बेटा-पुतहु बिन झगड़ा-झाँटी केने एक छप्परक तऽर खुशी-खुशी जीबैत अछि । जा ! कोन बात पसारि देलौं, अहाँक बेटा तँ अहाँकें बारि कऽ अलग रहैत अछि ।अहाँ की बुझबै एहि मेलाक रस ।"
रमेश बाबूक जबाब सूनि कमला बाबू बिनु किछु बाजने घऽर घुरि गेलाह ।

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें