नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 26 मार्च 2013

भोजी-सरहोजि-सजनी-सारि

भौजी-सरहोजि-सजनी-सारि

रंगक वर्षामे भीजल छी
भाँगक नशामे माँतल छी
ने सूतल छी ने जागल छी
फागक धारमे भासल छी
यै भौजी भऽ जाउ तैयार
छोड़ब अहींपर रंगक धार

जुनि काँच बुझू हम पाकल छी
बड सक्कत छी जुनि फाटल छी
सासुरक दुलरूआ हम छाँटल छी
अहीं लेल एतऽ आयल छी
राँगबे करब तँ की करतै सार
यै सरहोजि बिसरि जाउ सासुरक संसार

ने ठीक छी ने पागल छी
ई बात सत्त जे पियासल छी
काज-धाज छोड़ि आयल छी
विरह बड भेल तें घायल छी
मुदा आनलौं जेबी भरि अबीर प्यार
यै सजनी रंग लगबा लिअ यार

छी छोट मुदा मोन जीतल छी
लोंगिया मिरचाइ मुदा शीतल छी
यौवनक नव रससँ भीजल छी
ठंढियोमे बड धीपल छी
अहाँ लेल तँ छै नोट हजार
आउ सारि करब रंगक बौछार

भौजी-सरहोजि-सजनी-सारि
सब थाकि गेल पिचकारी मारि

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें