नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 1 जनवरी 2013

बाल गजल


एकटा नेनाक संग भेल गपक किछु अंश एहि राखबाक कोशिश


इनारक जल कतऽसँ एलै
जतऽसँ पोखरि भरल गेलै

तखन भेलै खेत कादो
जँ पटबन भरि राति भेलै

जखन एलै बाढ़ि आँगन
तखन चौकी कोच हेलै

जखन बाबू हाट गेलनि
तखन बुचिया खूब खेलै

जखन गाड़ी भेल गड़बड़
तखन जोरसँ लोक ठेलै

रहै मेला पैघ लागल
हमर पिपही तखन एलै

उगल रौदा जखन कड़गड़
तखन हमर स्नान भेलै

मफईलुन-फाइलातुन
1222-2122
बहरे-मजरिअ

अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें