नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 1 जनवरी 2013

बाल गजल


नव वर्षक पहिल दिन नेना सबमे बेसी उत्साह देखलौं तेँ नेनाक लेल एहि रचनाक संग सब गोटाकेँ नव वर्षक मंगलकामना ।

नव शर्ट नव टोपी भेल नव सालमे हमरा लेल
बड माँछ छल छानल तेल नव सालमे हमरा लेल

बस्ता कत्तौ फेकल अपन पोथी कत्तौ राखल अपन
इस्कूलमे छूट्टी भेल नव सालमे हमरा लेल

आ रे अमन आबें पेटला आ सुमन हमरा संग
भरि दिन कत्ते बनतै खेल नव सालमे हमरा लेल

पपिता तँ थुर्री गाछपर छै धातरी बहुते फड़ल
भेटल कत्तौ पाकल बेल नव सालमे हमरा लेल

छोरू अपन झगड़ा आइ नव जागरण करियौ आइ
नव दिवसमे हेतै मेल नव सालमे हमरा लेल

(बहरे-मुन्सरह, मुस्तफइलुन-मफऊलात
2212-2221 दू बेर सब पाँतिमे)


अमित मिश्र, (बाल गजल-79)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें