नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

बुधवार, 5 दिसंबर 2012

गीत



बड़ अजगुत भेल )2 गौरा तोर अँगनमा 
सुनू-सुनू गमकए )2 आइ पूरी पकनमा 

बड़ अजगुत भेल ) 2 गौरा तोर अँगनमा 
सुनू-सुनू गमकए ) 2 आइ पूरी पकनमा 

गौरा के एलह आइ तोर अँगनमा ) 2
देखू-देखू गमकए आइ पूरी पकनमा ) 2
कोन दिस गौरा आइ ) 2 उगलाह सूरज 
कि बिसरल हम तोर अँगनमा
बड़ अजगुत भेल ) 2 गौरा तोर अँगनमा 
सुनू-सुनू गमकए ) 2 आइ पूरी पकनमा 


सुनू सखी सुनू-सुनू )2
नहि अहाँ बिसरल, आइ हमर अँगनमा 
ओ नहि गमकए ) 2 आइ पूरी पकनमा 
लएलाह भोला आइ)2 भाँगक पुआ 
देलकन्हि हुनकर मनु भक्त दूलरुआ 
ओकरे जे रखिते ) 2 एलहुँ हे अहाँ 
आकरे ई गमक छी हे सखी सुनूने 

बड़ अजगुत भेल ) 2 गौरा तोर अँगनमा 
सुनू-सुनू गमकए ) 2 आइ पूरी पकनमा 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें