नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jnjmanu@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

शनिवार, 1 सितंबर 2012

गजल


भेटते जौं समय कहियो तs अपनों लेल सोचब हमहूँ
एखन धरि मरलौं दुनियाँ लs अपना लs जियब हमहूँ

भटकि रहल छै कतेक आखर मोने में जतय ततय
कागत पर जोरि जोरि कोनो नामी शाएर बनब हमहूँ

एखन पाप पुन्य क्यो नै बुझे छथ भेलैन सभ भ्रष्ट एत'
भ्रस्टाचारक बहैत गंगा में नै चाहितो तs बहब हमहूँ

जोश में सबटा होश गमेलौं हाथ रहल नै खाको पाथर
भव्य जौं चलन राखब त स्वर्गहि इजोर करब हमहूँ

कथी लs करै छी अनकर अप्पन एता नै छै किछ ककरो
सबटा एते रहते राखल राम नाम कs मरब हमहूँ

-------------------वर्ण-२२ ---------------------
रूबी झा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें