नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

शनिवार, 1 सितंबर 2012

गजल


मोनमें बसल गमकल हँसी
कोंढ में जा' क' अटकल हँसी

सांझ भिनसर परय मोन ओ
चान बनि ओत' पसरल हँसी

ठोर छल पातरे पान सन
दांत छल गचल चमकल हँसी

आँचरक खूट दाबिक' हँसै
कोन दोगे भ' ससरल हँसी

आश मोनक त' भेलै पुरण
आबि ओ निकट धमकल हँसी

२१२ २१२ २१२ सभ पांति में
रुबी झा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें