नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jnjmanu@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 3 जुलाई 2012

मोनक व्यथा


किनका कहियौन  पतिएताकेँ
हमर मोनक व्यथा बुझताकेँ 

बंद पिंजराकेँ चीडै जेकाँ
दिन भरि हम फरफराईत छी 
जुनि बुझु हम नारी मिथिलाकेँ 
हम तँ   मकड जालमे ओझरेल छी 

दुनियाँकेँ तँ  बात नहि  पुछू 
कोना की केलक व्यबहार यौ 
जननीकेँ गर्भमे अबिते देखू 
बिधाता मुनलैन्ह केबार यौ 

मए  बाबू हमरे दूखसँ 
पिचा गेला जीवनक पहाड़मे 
नैन्हेंटासँ पैन्ख गेल काटल
उडियो नहि  पएलहुँ  संसारमे 

बाबूकेँ आँगुर छोडियो नहि   पएलहुँ   
पतीकेँ हाथ धराए गएलहुँ 
नहि  किछु बुझलहुँ  रीत  दुनियाँकेँ 
अपन किएक सभ बिसराए गएलहुँ  

नव  घर आँगन नव समाजमे
जल्दी कियो कोना अपनेता
दोख नहि  किछु हुनको छनि लेकिन 
हमरा किएक कियो बुझता 

घरसँ कहियो नहि  बाहर निकललहुँ  
ऊँच -नीचकेँ ज्ञान नहि  पएलहुँ  
अर्जित  छल नहि  बुद्धि-बिद्या किछु 
नैन्हेंटामे सासूर हम एलहुँ  

कोन अपराध जन्मेसँ कएलहुँ  
बाबू अहाँ अपन संग नहि  रखलहुँ  
नहि  पतिएलहुँ  हमरोमे जीवन 
मोटरी बुझि क ' दूर भगएलहुँ  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें