नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

गुरुवार, 5 अप्रैल 2012

गजल

‎आब आगिक पता पुछतै पानि ऐठाँ ,
नै जड़त यौ कतौ घर लिअ जानि ऐठाँ ,
कखन धरि लोक जड़तै चुप जानवर बनि ,
तोड़बै जउर से लेतै ठानि ऐठाँ ,
छै दहेजो त' महगाई कम कहाँ छै ,
ओझरी सोझरेतै लिअ मानि ऐठाँ ,
बदलतै समय सगरो नवका जमाना ,
नै जँ बदलत त' ओ मरतै कानि ऐठाँ ,
जे जनम देलकै हुनका बिसरलै सब ,
माँथ पर जनक के रखतै फानि ऐठाँ ,
भाइ मे उठम-बजड़ा नै आब हेतै ,
आइ त' स्वर्ग के देबै आनि ऐठाँ ,
आगि पर पानि नेहक हँसि ढ़ारि दिअ ने ,
"अमित" सब के मिला सुख लिअ सानि ऐठाँ . . . । ।
फाइलातुन-मफाईलुन-फाइलातुन
2122-1222-2122
बहर-असम
अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें