नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

बुधवार, 11 अप्रैल 2012

आठलाखक कार



कलुआही जयनगर राजमार्ग, बरखाक समय, पिचक काते-कात खधिया सभमे पानि भड़ल | दीनानाथजी आ हुनक जिगरी दोस्त रामखेलाबनजी, दुनू गोटा अपन-अपन साईकिलपर उज्जर चमचमाईत धोती-कूर्ता पहिर, पान खाइत, मौसमकेँ आनन्द लैत बतियाइत चलि  जाइत रहथि | कि पाछुसँ एकटा नव चमचमाईत बड्डका एसी बुलेरो कार दीनानाथजीकेँ  उज्जर धोती-कूर्तापर थाल-पानि उड़बैत दनदनाईत आगू निकैल गेलन्हि |
दुनू दोस्तक साईकिल एका-एक रुकल | रामखेलाबनजी हल्ला करैत कारबलाकेँ  गरिएनाइ शुरू केलन्हि |
दीनानाथजी,  "रहए दियौ दोस्त किएक अपन मुँह खराप करै छी, एसी कारमे बंद ओ  कि सुनत, भागि गेल | ओनाहो ओ आठ लाखक कारपर चलैत अछि, हम आठ सएकेँ  साईकिलपर छी तँ  पानि- थालक छीत्ता तँ हमरे परत |"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें