नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

रविवार, 25 मार्च 2012

गजल

रूबी झाजिक गजल बहरे-रमल में----

घोघ हुनकर उतरि गेलै
चान सूरज पसरि गेलै


आँखि काजर भरल हुनकर,
मेघ करिया उमरि गेलै


देखि दाँतक चमक हुनकर
शीप मोती पसरि गेलै

फूल लोढे गेलि बारी
गाछ सबटा झहरि गेलै

गौर पूजै गेलि सीता
राम ऊपर नजरि गेलै

धनुष नै टूटैत देखै
प्राण सभ कें हहरि गेलै

हाथ मालाफूल लेने
भूप सभटा उतरि गेलै


ठार सीता राम निरखति
पुष्प माला ससरि गेलै


(मत्रक्रम 2122,2122, सभ पांति में )
रूबी झा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें