नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

शुक्रवार, 2 मार्च 2012

{ गजल }

देह मे सटलै जखन देह सिहरि गेलै देह ,
अंग-अंग फड़क= लागलैए लसरि गेलै देह ,
एकाएक बसंतक हमला भेलै मौसम पर ,
नव पात भरल गाछ जेकाँ मजरि गेलै देह
जेना आलसी मनुष्य लेल समय नै ठहरै छै ,
ओहिना कँप-कँपा क= क्षण मे ससरि गेलै देह ,
साँस मे तेजी ,खूनक प्रवाह बढ़ि गेलै पल मे ,
लड़ाइ मे ज्ञानी पुरूष जेकाँ सम्हरि गेलै देह ,
भाइ डर सँ नै खुशी सँ सिहरल देह बुझू ,
शनी कए प्रकोप हटल से उचरि गेलै, देह ,
पहिलुक बेर सिनेह मे एहने सन होइ छै ,
"अमित" वहशी लोक कए त= उजरि गेलै देह . . . । ।
अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें