नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

सोमवार, 5 मार्च 2012

{< मुन्ना कक्का होली मे>}

{< मुन्ना कक्का होली मे>}
किनको मुँहेँ सुनने छलौँ इ गान हौ
"बुढ़बा कए दिल होइ छै बेसी जुआन हौ"
होलीका दहन मे जरबै सब लाज-लेहाज छै ,
होली सन दिन मे लाजक कोन काज छै ,
चारि बजे भोरे मुन्ना कक्का उठि गेलाह ,
बड़का टा शंक्वाकार टोपी पहिर लेलाह ,
बड़का टा बाल्टी मे रंग छलै घोरल ,
गोला छल भांगक आधा किलो पिसल ,
होली कए उमंग सबटा सिगनल तोड़ैए ,
केउ अपन केउ भैया कए सासुर धरि दौड़ैए ,
भोर सँ दुपहर .दुपहर सँ साँझ भ गेलै ,
मुन्ना कक्का सँ होली खेल= केउ नै एलै ,
थाकि-हारि चललाह गाम घुमै लए ,
भरल बाल्टी रंग ककरो पर उझलै लए ,
कक्का कए देख सब केउ पड़ाई छल ,
नवका-नवका गाल खोजि रंग लगबै छल ,
ककरा अबीर लगेता ,कनियाँ भेल स्बर्ग वासी ,
भौजी बिमार छेन .सारि बसैए काशी .
मुन्ना कक्का देख इ बड तमसा गेलाह ,
अन्त मे भरल बाल्टी रंग अपने पर उझैल लेलाह ,
ऐ तरह सँ मुन्ना कक्का होली मनेलाह . . . । ।
कविता रूपि लाल गुलाल अपने सबहक चरण मे आ जे छोट छथि हुनकर गाल पर । खराप नै मानब होली छै ।
अमित मिश्र

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें