नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jnjmanu@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

शुक्रवार, 17 फ़रवरी 2012

सासु माँ नहिं हेथिन ( एकटा पुतोहुक दर्द )

सुनय छलौंह सासु माँ होयत छथि
लेकिन ई की माँ बेटी के बदनाम करतीह
सोचने की छलौह आ भ गेल की
माँ कोना एतेक कठोर हेतीह
माँ के मन में त ममता होयत अछि
मुदा सासु माँ.............................................. ?
किछु हम कहबनि और ओ सुनथिन्ह
किछु ओ कहती और हम सुनब
लेकिन भ गेल उल्टा
जखन पता चलल कि जे ओ हमर कटटर दुश्मन छथि
अनका सॅ हमरा संग लड़य के लेल सलाह लेति छथि
घर में अगि लगेति अछि
ओकरा मिझाईल जाईत अछि
एतह हम पूरा जरईत छी
कियो मिझबय बला नहिं अछि
हमर जिनगी में आगि लागल रहत त
तापय के लेल दुश्मन के बजाबय छथि
घरक बात घर में नहिं राखि के
हुनका सभ सॅ पंचैती करबाबय छथि
आई पता चलल जे सासु कखनो
पुतोहु के लेल माँ नहिं हेतीह
सासु सासुए रहतीह
पुतोहु के बेटी नहिं कहतीह
घर के जे राज रहत से सभ सॅ कहथिन्ह
चारु तरफ सॅ घेरि के पुतोहु के मरय लेल उकसेथिन्ह
आशिक ’राज’ ( मित्र के डायरी सॅ लेल गेल अछि )

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें