नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

कविता-हम एहन किएक छी ?

हम एहन किएक छी ?
माटि-पानि छोरि कए  
जाति-पाति पर लडैत किएक छी ?
हम एहन किएक छी ?

आएल कियो हाँकि लेलक
जाति-पाति पर बँटि देलक 
ऊँच-निचकेँ  झगरा में 
अपन विकास छोरि देलहुँ 
हम एहन किएक छी ?

के  छी अगरा
के छी पछरा 
सभ  मिथिलाक संतान छी 
फोरि कपार देखु  तँ   
सबहक सोनित एके छी 
हम एहन किएक छी ?

मुठ्ठी भरि लोक 
अपन स्वारथक कारणे
अपना सभकेँ 
तोर रहल अछि 
मोर रहल अछि 
जाति पातिमे ओझरा कए  
मिथिलाक विकाश  रोकि रहल अछि 

धरतिकेँ  कोनो जाति है छैक ?
मएक  कोनो जाति है छैक ?
तँ    हम सब सन्तान
बटेलौंह कोना ?
हम एहन किएक छी ?

आबो हम सँकल्प करी 
जाति-पाति पर नहि लरी 
अपन मिथला हमहि संभारब 
सप्पत मात्र एतबे करी  
हम एहन किएक छी ?
***जगदानन्द झा 'मनु'  

1 टिप्पणी: