नील पट्टीकेँ क्लीक कए कs ब्लॉगक सदस्य बनल जाउ

जय मिथिला जय मैथिली

रचना मात्र मैथिलीमे आ स्वम् लिखित होबाक चाही। जँ कोनो अन्य रचनाकारक मैथिली रचना प्रकाशित करए चाहै छी तँ मूल रचनाकारक नाम आ अनुमति अवश्य होबाक चाही। बादमे कोनो तरहक बिबाद लेल ई ब्लॉग जिमेदार नहि होएत। बस अहाँकें jagdanandjha@gmail.com पर एकटा मेल करैकेँ अछि। हम अहाँकेँ अहाँक ब्लॉग पर लेखककेँ रूपमे आमन्त्रित कए देब। अहाँ मेल स्वीकार कएला बाद अपन, कविता, गीत, गजल, कथा, विहनि कथा, आलेख, निबन्ध, समाचार, यात्रासंस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्ध रचना, चित्रकारी आदि अपन हाथे स्वं प्रकाशित करए लागब।

मंगलवार, 10 जनवरी 2012

ठूँठ गाछ


हम ठूँठ गाछ छी .
नहि द' सकए छाहड़ी छी .
आ नहि कोनो मिठगर आम ,
किएक त हम ठूँठ गाछ छी .
नहि बैन सकए छी कोयलक आशियाना ,
नहि क' सकए छी वर्षा के स्वागत ,
नहि खेलत डोल-पाती नेना ,
किएकी हम ठूँठ गाछ छी ,
माली चाहए कखन उखाड़ी दी ,
महिसक ढाही सँ तवाह छी ,
कोनो पुछ नहि आब उपवन मे ,
किएकी हम ठूँठ गाछ छी ,
{ भाग-2}
एकटा एहने ठूँठ रहै छै अपनो समाज मे ,
गरीब पड़ल अछि जेकर नाम ,
अमिरक मइर गाइर खा ओ ,
बिता देलक जीनगी तमाम ,
लिखल भेटत हमर देश गरीब अछि ,
त' की तिरंगा फाइर देबै .
वा खोजि अनंत सँ भारत माँ के .
गरीब कैह माइर देबै ,
नहि ने ,
हम मनुख छी हम एक छी ,
जुनी करू कियो कनको भेद भाव .
ह'म "अमित" अपने गरीब छी ,
मुदा राखब सब संग लगाव ,
तखने फुलायत ठूँठ गाछ . . . । ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें